Saturday, September 24, 2016

नंगी औरतें

नंगी औरतें
१,
कितनी बेशर्म हैं ये
कोई शऊर नहीं
ब्लाउज तक नही पहनती
तालाब पर सबके सामने नहा लेती हैं
पिंडलियों तक खुली धोती पहनने वाली ये औरतें
छि.....  जंगली कंही की
देश के आदिवासी इलाकों में मत जाना
इतनी शर्म आती है कि
 नजरें ऊपर नही उठतीं।


तुमने प्रियंका चोपडा की तस्वीर देखी
इंसटाग्राम पर!
बैकलेस रेड कलर का गाउन पहने,
रेड कारपेट पर जलवा बिखेरती हुइ,
कितनी खूबसूरत लग रही थी उसकी पीठ
सबकी नजरे उसी पर टिकी थी.
सच मे
देश का गौरव हैं
प्रियंका।




3 comments:

  1. सामाज पर प्रहार करती एक सामयिक रचना
    NICE POEM

    ReplyDelete
  2. चुभता व्यंग्य !

    ReplyDelete

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...