Saturday, July 1, 2017

बदलता समय


एक  चिड़िया
गाती है भोर का गीत ,
एक चिड़िया 
भरती है उड़ान,
एक चिड़िया 
फड़फड़ाती है और दम तोड़ देती है पिंजड़े के भीतर ,
चिड़िया वही है 
भोर वही है 
पंख वही हैं 
पिंजड़ा वही है 
बस बदला है तो समय 
और एक स्वतंत्र व्यक्तित्व होने के मायने। 




No comments:

Post a Comment

#me too

भीतर कौंधती है बिजली, कांप जाता है तन अनायास, दिल की धड़कन लगाती है रेस, और रक्त....जम जाता है, डर बोलता नहीं कहता नहीं, नाचत...