Monday, July 24, 2017

देखो बाढ़ आयी

उमड़ रहीं नदियाँ
बह रहे हैंबाँध ,
टूट रहे सपने
ढह रहे मकान।

राशन बह गया
बह गयी किताब
बापू कब तक थामें रहेंगे
उनमे नहीं ताब।

पानी अक्षर पी रहा
कुत्ता रोटी खाय
भूखी बिटिया देखकर
हाहाकार मचाय।

चारों  तरफ प्रलय है
मच रहा है शोर
कौन कहाँ बैठेगा
कंही नहीं ठौर।

जूझती बस्तियां हैं
नींद में सरकार
कौन कंहा जाय अब
सबका बंटाधार।





No comments:

Post a Comment

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...