Monday, July 3, 2017

मीत हमारे


कस्ती , नदिया ,पंछी ,पर्वत
घर लौटे थे मीत हमारे ,
सुख की सब्जी , दाल हंसी थी
रोटी सी मुस्काने उनकी।
दाना दाना रंग बिखेरे ,
हंसी ठिठोली थाली थाली ,
मुँह में जीवन , पेट में जीवन ,
रूह हमारी सुख का सावन।
उनका आना सुखी ज़िंदगी ,
उनका जाना मौत वीरानी।

No comments:

Post a Comment

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...