Tuesday, July 4, 2017

ईमानदार दोस्त

दो दोस्त एक दूसरे  से बात करते हुए.
पहला दोस्त : यार मेरे रुपये कब लौटाएगा ?
दूसरा दोस्त : कौन से रुपये , मुझे याद नहीं आ रहा मैंने तुमसे कब रुपये लिए थे।
पहला दोस्त : हाँ मै जानता था तुम भूल जाओगे ।
दूसरा दोस्त : नहीं यार ऐसी बात नहीं है , बता न कितने रुपये थे , मै  तुम्हारे रुपये जल्दी ही लौटा दूंगा।
 पहला दोस्त : तुम्हे याद होगा , हम दोनो तुम्हारी साईकिल से कॉलेज जाते थे। एक बार रास्ते में साईकिल पंचर हो गयी थी , तब तुमने  साईकिल बनवाने के लिए मुझसे दो रुपये लिए थे.
दूसरा दोस्त : हाँ ,  याद  या ये लो अपने दो रुपये।  वह रूपये निकाल कर देता है।
पहला दोस्त : देख यार बुरा मत मानना कि  मैंने  तुमसे  दो रुपये मांग लिए.
वो बात ऐसी है कि आज से पहले मैंने तुम्हे जब भी याद किया , मुझे सबसे पहले अपने दो रुपये याद आये।
अब देखता हूँ तुम मुझे  याद आते हो या नहीं। .

Anyway happy friendship forever.

No comments:

Post a Comment

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...