Monday, July 3, 2017

खुशबुओं का ख़ुमार

होठों पे राखी आग और हाथों में हिमालय ',
कितना तेज़  है उनकी आँखों में खुशबुओं का ख़ुमार।
पास आने से डर है फ़ना हो जाने का ,
काश ज़िंदा रहे रूहों का ठिकाना तब तक ;
जब तक
बर्फ पिघलने का मौसम न आये ,
फूलों की पंखुड़ियां मुरझाने न लगें ,
सर्द रातों में ओस की बारिश न थमे ,
उनके जाने की घड़ी बीत न जाये।



No comments:

Post a Comment

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...