Monday, July 24, 2017

जिंदा रहने की ख्वाहिश

मेरे जीवन के कटुतम रंगों में
तुम्हारा रंग सबसे मधुर  है .
जीवन के संघर्षों के धूसर लम्हों में
तुम हरियाली की तरह आती हो
और मुझे सुर्ख कर जाती हो .
सब कुछ ख़त्म होने की कगार पर भी
तुम मुझे डटे रहने का हौसला दे जाती हो .
तुम्हारी जाती ज़िंदगी के बारे में अनजान हूँ फिर भी ;
ज़न्मों की पहचान लगती है हमारी .
तुम्हारी खिलखिलाहट को बस एक नज़र देखकर
हजारों मौतों का नज़ारा भूल जाता हूँ .
हाँ मै मुर्दा लोगों को उनके अंतिम स्थान तक ले जाता हूँ
फिर भी रोज़ जिंदा रहने की ख्वाहिश रखता हूँ .



No comments:

Post a Comment

अटल जी की अवधी बोली में लिखी कविता

मनाली मत जइयो मनाली मत जइयो, गोरी  राजा के राज में जइयो तो जइयो,  उड़िके मत जइयो,  अधर में लटकीहौ,  वायुदूत के जहाज़ मे...