Saturday, July 1, 2017

एक दहशत गर्द का आत्मकथ्य


कल जब तुम आओगे इस धरती पर मेरे बच्चे,
तुम्हारा पिता ख़त्म हो चुका होगा मानवबम के शरीर में,
इंसानियत तोड़ चुकी होगी दम ,
लहुलुहान हो चूका होगा तुम्हारा आस पास
जिस अस्पताल में जन्म देने वाली है तुम्हारी माँ;
उसे उड़ाने की शाजिश कर चूका है तुम्हारा बाप ,
मै शर्मिंदा हूँ मेरे बच्चे !
तुम्हारा स्वागत  प्यार से नहीं हिंसा से होने वाला है :
लेकिन तुम अगरबच जाना मेरे लाल !
प्यार की जड़ें फैलाना हिंसा की नहीं ,
इस धरती को इंसानों की जरुरत है

हैवानों की नहीं. 

No comments:

Post a Comment

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...