Saturday, July 22, 2017

जाति पूछ लो राष्ट्रपति की

जाति न पूछो साधु की

जाति न पूछो बाम्हन की
जाति न पुछो क्षत्रिय की

जाति पूछ लो नेता की
जाति पूछ लो कार्यकर्ता की
जाति पूछ लो मंत्री की
जाति पूछ लो सांसद की
जाति पूछ लो विधायक की
जाति पूछ लो पंच की
जाति पूछ लो सरपंच की

जाति पूछ लो प्रधानमंत्री की
और जाति पूछ लो राष्ट्रपति की
क्योंकि जाति जाने बिना चुनाव कैसे होगा
चुनाव के बिना लोकतंत्र कैसा?

जाति न पूछो गरीब की
जाति न पूछो मजदूर की
जाति न पूछो भूखे की
जाति न पूछो नंगे की

क्योंकि अच्छे लोकतंत्र में जातिवाद एक कलंक है

No comments:

Post a Comment

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...