Wednesday, July 19, 2017

पूर्णता की ओर

किसी के आने का इंतजार,
देखने और मिलने की चाहत,
बीतते समय का डर,
कल में कुछ और नया जुड़ जाने की संभावना,
एहसासो के मर जाने की चिंता ,
जीत कर भी सब कुछ हार जाने की चाहत ,
उपहार में अनचाही चीजें मिलने की खुशी,
मुस्कुराते हुए अश्कों को पोछने की अभिलाषा
और ; मौन के मुखर होने की प्रतीक्षा

क्या यही सब नहीं चलता रहता है मन में ;
जब तक अपनी पूर्णता की ओर नहीं बढ़ जाता। 

No comments:

Post a Comment

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...