Sunday, July 9, 2017

उनको अब तुम जाने न दो

बरसो मेघा , जम  के बरसो
वो आये हैं ! उन को अब तुम जाने न दो ,
मुझको  जितनी रहीं दिक्कतें ;
उनको पूरा सुन लेने दो।
उनने जितने पतझड़ झेले
उनको पूरा कह लेने दो ,
वर्षा बनकर समय दिला दो
 बातें बनकर गले मिला दो ,
साथी बनकर रहे है तन्हा ,
इस जीवन में हमें मिला दो
बरसो मेघा जम के बरसो
उनको अब तुम जाने न दो.


No comments:

Post a Comment

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...