Tuesday, July 4, 2017

सच के खिलाफ़

नहीं चाहती कि लिखू एक और सच 
वह भी हो  जाए आग के हवाले ,
कलम पकड़ने के एवज में उधेड़ जी चमड़ी,
तसलीमा की तरह 
अपने ही देश में कर दिया जाय नज़रबंद,
धर्म के ठेकेदार करने लगें फ़तवा,
दस आदमी उतारने लगें इज्ज़त सरे बाज़ार। 
जानती हूँ इस आज़ाद देश में ;
आधी आबादी आज भी है पराधीन,
सृष्टी के सपने को धरती पर उतारने वाले को;
गर्भ में ही सुला दिया जाता है मौत की नींद ,
वे चाहते हैं उनका सच छुपा रहे सात पर्दों में ,
हुकूमत उनकी चलती रहे सालों साल,
दुसरे की कुर्बानी पर उड़ती रहे मौज 
और वे !मुसोलिनी , नेपोलियन ,औरंगज़ेब बन 
करते रहें तानाशाही उस कौम पर 
जो जानती है उनकी नंगी असलियत। 

No comments:

Post a Comment

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...