Saturday, July 15, 2017

परिंदे


दो परिंदे मेरी मुंडेर पर बैठे है
एक दूसरे के प्रेम में गुंथे हुए .....
दोनों साथ-साथ दाना लाये और खाने लगे .
एक दूसरे के स्पर्श से दूर कि उन्हें :
प्रेम का रिश्ता निभाने के लिए किसी अवलंब की आवश्यकता नहीं .
वे साथ है अपने अस्तित्व की तरह
कि उनका प्रेम साझा है ,
उनकी भूख साझी है ,

और उनकी उड़ान साझी है .

No comments:

Post a Comment

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...