Thursday, August 10, 2017

दरारें देशों के बीच


2 comments:

  1. हर शब्द अपनी दास्ताँ बयां कर रहा है आगे कुछ कहने की गुंजाईश ही कहाँ है बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग पर आपका स्वागत है संजय जी . उत्साह वर्धन के लिए बहुत बहुत शुक्रिया. आशा है आपकी प्रतिक्रियाएं और मार्गदर्शन हमेशा मिलता रहेगा . सादर

      Delete

स्वाद!

उनकी टपकती खुशी में छल की बारिश ज़्यादा है, आँखों में रौशनी से ज्यादा है नमी, धानी चूनरों में बंधे पड़े हैं कई प्रेम, ऊब की काई पर...