Friday, August 11, 2017

कत्लगाह


1 comment:

  1. बहुत खूब ... गहरा एहसास लिए शब्द ...

    ReplyDelete

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...