Friday, August 11, 2017

कत्लगाह


1 comment:

  1. बहुत खूब ... गहरा एहसास लिए शब्द ...

    ReplyDelete

#me too

भीतर कौंधती है बिजली, कांप जाता है तन अनायास, दिल की धड़कन लगाती है रेस, और रक्त....जम जाता है, डर बोलता नहीं कहता नहीं, नाचत...