Friday, August 11, 2017

कत्लगाह


1 comment:

  1. बहुत खूब ... गहरा एहसास लिए शब्द ...

    ReplyDelete

स्वाद!

उनकी टपकती खुशी में छल की बारिश ज़्यादा है, आँखों में रौशनी से ज्यादा है नमी, धानी चूनरों में बंधे पड़े हैं कई प्रेम, ऊब की काई पर...