Sunday, August 13, 2017

वो काली रात


2 comments:

  1. ये भी एक कडवी सच्चाई है ... इतिहास का सबक अगर कोई सीखना चाहे तो ... पर क्या होगा ... कहीं इतिहास दोहराएगा तो नहीं अपने आप को ...

    ReplyDelete
  2. आखिर बरबादियों की ओर चल पड़े हैं हम। फिर भी उम्मीद कायम रखनी ही होगी।

    ReplyDelete

स्वाद!

उनकी टपकती खुशी में छल की बारिश ज़्यादा है, आँखों में रौशनी से ज्यादा है नमी, धानी चूनरों में बंधे पड़े हैं कई प्रेम, ऊब की काई पर...