Monday, March 26, 2018

तेरी सुरमयी याद में गुलाबी हम


 प्रेम के पैरहन में
खूबसूरत लड़ियाँ पड़ीं है
हमारे स्पर्श की, 
नैनों ने कहा कुछ....
कि अफ़सानों ने चलना शुरू किया,
रात की उतरन ने गुलाबी सूरज थमाया
हरी चूड़ियों ने बोये कुछ कचनार 
रजनी गंधा की कलियां चहकीं 
घुल गयीं साँसों के संग
मैं.. बेतरतीब सी .... 
आँचल संभाले दौड़ती हूँ ;
वक्त को गोद में उठाने 
और तुम......
हवाओं का पीछा करते हो.
भीना भीना है सब कुछ,
उम्मीदों के बाग़ बहार की प्रतीक्षा में हैं
कपाटों की झिरी से
झांकती है मनुहार
सुरमयी आँखों ने 
रुपहले ख़ाब बुने हैं ... कि 
तुम्हारी कश्ती इस बार 
मेरी ही जमीन में लगेगी
और हम 
नदियों से सागर होने की यात्रा करेंगे...


7 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना कच्ची कचनार सी, गूंचा जैसे महक कर बिखर गया हवाओं के संग।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय कुसुम दी,
      आपकी सराहना सिर आँखों पर
      इसी प्रकार उत्साह वर्धन वाली प्रतिक्रियाओं की उम्मीद में

      सादर

      Delete
  2. अपर्णा जी बेहद सुंदर एहसास में भीगी प्यारी सी रचना....वाह्ह्ह👌👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय श्वेता जी,
      हार्दिक आभार इस प्रशंसा के लिए
      सादर

      Delete
  3. तुम्हारी कश्ती इस बार
    मेरी ही जमीन में लगेगी
    और हम
    नदियों से सागर होने की यात्रा करेंगे...----------- अनुरागी मन की बहुत ही प्यारी और सार्थक प्रत्याशा !!!!!!!!!!! सुंदर र्र्चना प्रिय अपर्णा | सस्नेह बधाई |

    ReplyDelete
  4. आदरणीय रेनू दी
    आपकी नेहमय बधाई ने दिल छू लिया।
    आपकी स्नेहकांक्षी
    सादर

    ReplyDelete
  5. वाह्ह्ह्ह्
    बेहतरीन रचना

    ReplyDelete

#me too

भीतर कौंधती है बिजली, कांप जाता है तन अनायास, दिल की धड़कन लगाती है रेस, और रक्त....जम जाता है, डर बोलता नहीं कहता नहीं, नाचत...