Thursday, June 28, 2018

कबीर


1 comment:

  1. बाकी सब ठीक-ठाक समझ पाएं जी 🙏 पर 👇
    "खाये नौ मन पान" - यह क्या लिखा है ? इस भाषा पर रोशनी डाल देंगे तो आपकी बड़ी कृपा होगी जी 🙏

    ReplyDelete

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...