Saturday, June 9, 2018

देख कर भी जो नहीं देखा !

एक कविता.... कुछ अदेखा सा जो यूं ही गुज़र जाता है व्यस्त लम्हों के गुजरने के साथ और हम देखकर भी नहीं देख पाते , न उसका सौंदर्य , न उसकी पीड़ा, न ख़ामोशी , और न ही संवेग
 सब कुछ किसी मशीन से निकलते उत्पाद की तरह होता जाता है और हमारा संवेदनशून्य होता मष्तिष्क कुछ भी ग्रहण नहीं कर पाता।


2 comments:

  1. वाह ... बहुत ही खूबसूरती से इस रचना को कहा है आपने ...
    ये अंदाज़ कमाल का है ... कहते हुए जैसे आपने सच में देख लिया ...

    ReplyDelete
  2. मन की आंखों से सब कुछ देख लिया सखी।
    वाह!!

    ReplyDelete

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...