Saturday, July 28, 2018

कारोबार




जब तुम अट्टालिकाओं की खेती कर रहे थे,
    तभी तुमने तबाह कर दिया था;
 बूढ़े बरगद का साम्राज्य,
पीपल की जमीन को रख दिया था गिरवीं,
न जाने कितने पेड़ों को किया था धराशायी,
अपनी रौ में ख़त्म कर रहे थे, 
अपने ही बच्चों की सांसें....
लो अब काटो अस्थमा की फसलें,
कैंसर के कारोबार से माल कमाओ,
दिल और गुर्दों का करो आयात- निर्यात,
तन का क्या है......
एक उजड़ेगा तो दूसरा मिलेगा
मृत्यु शाश्वत सत्य है
उससे क्या डर....
प्रकृति रहे न रहे,
धरती बचे न बचे, 
हमें क्या!
बरगद, पीपल , नीम के दिन नहीं रहे,
अब ईंटें उगाते हैं, लोहा खाते हैं
और अट्टालिकाओं के भीतर
जिन्दा दफ़न हो जाते हैं।।

#Aparna Bajpai
Image credit shutterstock
   



3 comments:

  1. बहुत सुन्दर रचना
    नमन आप की लेखनी को....एक सार्थक रचना

    ReplyDelete
  2. I just read you blog, It’s very knowledgeable & helpful.
    i am also blogger
    click here to visit my blog

    ReplyDelete

अटल जी की अवधी बोली में लिखी कविता

मनाली मत जइयो मनाली मत जइयो, गोरी  राजा के राज में जइयो तो जइयो,  उड़िके मत जइयो,  अधर में लटकीहौ,  वायुदूत के जहाज़ मे...