Thursday, August 16, 2018

अटल जी की अवधी बोली में लिखी कविता

मनाली मत जइयो
मनाली मत जइयो, गोरी 
राजा के राज में

जइयो तो जइयो, 
उड़िके मत जइयो, 
अधर में लटकीहौ, 
वायुदूत के जहाज़ में.

जइयो तो जइयो, 
सन्देसा न पइयो, 
टेलिफोन बिगड़े हैं, 
मिर्धा महाराज में

जइयो तो जइयो, 
मशाल ले के जइयो, 
बिजुरी भइ बैरिन 
अंधेरिया रात में

जइयो तो जइयो, 
त्रिशूल बांध जइयो, 
मिलेंगे ख़ालिस्तानी, 
राजीव के राज में

मनाली तो जइहो. 
सुरग सुख पइहों. 
दुख नीको लागे, मोहे 
राजा के राज में।

3 comments:

  1. I just read you blog, It’s very knowledgeable & helpful
    i am also blogger
    click here to visit my blog

    ReplyDelete
  2. वाह !!!!प्रिय अपर्णा बहुत ही सरस रचना अटल जी की ।आभार आपका share करने के लिए ।

    ReplyDelete

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...