Saturday, July 1, 2017

बदलता समय


एक  चिड़िया
गाती है भोर का गीत ,
एक चिड़िया 
भरती है उड़ान,
एक चिड़िया 
फड़फड़ाती है और दम तोड़ देती है पिंजड़े के भीतर ,
चिड़िया वही है 
भोर वही है 
पंख वही हैं 
पिंजड़ा वही है 
बस बदला है तो समय 
और एक स्वतंत्र व्यक्तित्व होने के मायने। 




No comments:

Post a Comment

मंदिर में महिलाएं

अधजगी नींद सी कुछ बेचैन हैं तुम्हारी आंखें, आज काजल कुछ उदास है थकान सी पसरी है होंठों के बीच हंसी से दूर छिटक गई है खनक, आओ...