Saturday, July 15, 2017

जादू


जब तुमने मेरी आँखों में झाँका
एक साथ हजारों दिए रौशन हो गए .
तुमने मेरी आत्मा तक पंहुचने का लम्बा सफ़र तय कर लिया
और मै ; अब भी तुम्हारी पहचान के चिन्ह तलाश रही हूँ.
कितनी सच्चाई तुमने थामा था मेरा हाँथ ;
कि तार तार झंकृत हो गया था मेरा.
कैसे कर लेते हो तुम ये जादू ?
उफ़, मै भी क्या पूछ रही हूँ!
तुम तो मोह से परे हो और रिश्तो से भी .
जब कोई देह का बंधन न हो ,
कोई मर्यादा न हो

तो ये मिलन इतना शाश्वत , इतना सच्चा क्योँ नहीं हो सकता ?

No comments:

Post a Comment

मंदिर में महिलाएं

अधजगी नींद सी कुछ बेचैन हैं तुम्हारी आंखें, आज काजल कुछ उदास है थकान सी पसरी है होंठों के बीच हंसी से दूर छिटक गई है खनक, आओ...