Sunday, July 16, 2017

जेब खाली

कुछ भी खरीदो , हर सामान पर टैक्स
एक एक मुस्कुराहट पर टैक्स
बडी खुशी पर और ज्यादा टैक्स
अब इस धरती पर हवा , पानी , रंज ग़म
और एहसासों पर भी टैक्स लगाने पर विचार चल रहा है.



चलो जेब  खाली करो.

No comments:

Post a Comment

मंदिर में महिलाएं

अधजगी नींद सी कुछ बेचैन हैं तुम्हारी आंखें, आज काजल कुछ उदास है थकान सी पसरी है होंठों के बीच हंसी से दूर छिटक गई है खनक, आओ...