Saturday, July 22, 2017

पुरानी किताब हूं

मै रीति हूं, रिवाज़ हूं ,पुराना हिसाब हूं,
बंद दरवाजों में पडा पुराना असबाब हूं.
कीमत कुछ भी नहीं मेरी फिरभी ;
हाथ आयी अचानक पुरानी किताब हूं.

रख लो सन्भाल कर या बेच दो रद्दी में
मैं पुस्तैनी मकान में पडा दादा जी का ख्वाब हूं.

No comments:

Post a Comment

मंदिर में महिलाएं

अधजगी नींद सी कुछ बेचैन हैं तुम्हारी आंखें, आज काजल कुछ उदास है थकान सी पसरी है होंठों के बीच हंसी से दूर छिटक गई है खनक, आओ...