Monday, July 24, 2017

देखो बाढ़ आयी

उमड़ रहीं नदियाँ
बह रहे हैंबाँध ,
टूट रहे सपने
ढह रहे मकान।

राशन बह गया
बह गयी किताब
बापू कब तक थामें रहेंगे
उनमे नहीं ताब।

पानी अक्षर पी रहा
कुत्ता रोटी खाय
भूखी बिटिया देखकर
हाहाकार मचाय।

चारों  तरफ प्रलय है
मच रहा है शोर
कौन कहाँ बैठेगा
कंही नहीं ठौर।

जूझती बस्तियां हैं
नींद में सरकार
कौन कंहा जाय अब
सबका बंटाधार।





No comments:

Post a Comment

स्वाद!

उनकी टपकती खुशी में छल की बारिश ज़्यादा है, आँखों में रौशनी से ज्यादा है नमी, धानी चूनरों में बंधे पड़े हैं कई प्रेम, ऊब की काई पर...