Thursday, July 20, 2017

नेतागिरी

इसकी टोपी उसके सिर
उसकी टोपी इसके सिर
कंहा से सीखा ?


अरे क्या कह रहे है भैया !
पुरखों से यही धंधा तो करते आ रहे है

नेतागिरी तो हमारे खून में है .........

2 comments:

मंदिर में महिलाएं

अधजगी नींद सी कुछ बेचैन हैं तुम्हारी आंखें, आज काजल कुछ उदास है थकान सी पसरी है होंठों के बीच हंसी से दूर छिटक गई है खनक, आओ...