Wednesday, July 19, 2017

पूर्णता की ओर

किसी के आने का इंतजार,
देखने और मिलने की चाहत,
बीतते समय का डर,
कल में कुछ और नया जुड़ जाने की संभावना,
एहसासो के मर जाने की चिंता ,
जीत कर भी सब कुछ हार जाने की चाहत ,
उपहार में अनचाही चीजें मिलने की खुशी,
मुस्कुराते हुए अश्कों को पोछने की अभिलाषा
और ; मौन के मुखर होने की प्रतीक्षा

क्या यही सब नहीं चलता रहता है मन में ;
जब तक अपनी पूर्णता की ओर नहीं बढ़ जाता। 

No comments:

Post a Comment

मंदिर में महिलाएं

अधजगी नींद सी कुछ बेचैन हैं तुम्हारी आंखें, आज काजल कुछ उदास है थकान सी पसरी है होंठों के बीच हंसी से दूर छिटक गई है खनक, आओ...