Sunday, July 2, 2017

हाँथ हिलाते हैं बच्चे

बच्चे नहीं चाहते ;
कि ट्रेन के किसी डिब्बे में लग जाये आग
धू धू कर जलने लगे जिन्दा शरीर,
बच्चे नहीं चाहते ;
कि टूट जाये कोई जर्जर पुल
और रेलगाड़ी के डिब्बे लेलें जल समाधि,

बच्चे नहीं चाहते ;
कि न पंहुच पाओ तुम अपने घर 
लेकर सबके लिए उनके हिस्से की खुशियाँ ,

बच्चे नहीं चाहते कि हो कंही पर कुछ अनिष्ट:

इसीलिये रेलगाड़ी के गुजरने पर 
बच्चे हिलाते हैं हाँथ 
खिलखिलाते हैं और देते हैं शुभकामना 
तुम्हारी सही -सलामत घर वापसी के लिए .

No comments:

Post a Comment

मंदिर में महिलाएं

अधजगी नींद सी कुछ बेचैन हैं तुम्हारी आंखें, आज काजल कुछ उदास है थकान सी पसरी है होंठों के बीच हंसी से दूर छिटक गई है खनक, आओ...