Sunday, July 23, 2017

२ प्रेम कवितायें

१- तुमने कहा पूजा
मै चुप रही ,
तुमने कहा आशा
मै मुस्कुराई ,
तुमने कहा नैना
मैंने तुम्हे देखा ,
तुमने कहा खुशी
मै खिलखिलाई,
तुमने कहा धरती
मैंने थाम लिया तुमको ,
जब मैंने कहा आकाश
तुम दूर होते गए ,
इतनी दूर कि मै तुम्हे छू न सकूं
तुमसे कुछ कह न सकूं
देती रहूँ दुनिया को भुलावा
क्षितिज की तरह.
कि धरती और आकाश एक हो गए !


२ - मैंने कहा था मत वादा करो मुझसे
अपने वापस लौट आने का
न जाने कब बदल जाए मेरा पता ;
और तुम भटकते रहो इधर उधर
अपने गतव्य  तक न पंहुच पाने वाले पत्र  की भांति।

1 comment:

  1. सुन्दर प्रस्तुति !
    आज आपके ब्लॉग पर आकर काफी अच्छा लगा अप्पकी रचनाओ को पढ़कर , और एक अच्छे ब्लॉग फॉलो करने का अवसर मिला !

    ReplyDelete

समलैंगिक प्रेम

बड़ा अजीब है प्रेम, किसी को भी हो जाता है, लड़की को लड़की से, लड़के को लड़के से भी, समलैंगिक प्रेम खड़ा है कटघरे में, अपराध है सभ्य समाज में...