Tuesday, July 4, 2017

उपभोक्तावाद का सच

देश दुनिया में पांव पसारता हुआ उपभोक्तावाद ,
अपनी आँखों से देखती हूँ
क्या करूं ? रोक नहीं सकती
कह नहीं सकती कि दूर रहो इससे ,
यह अजगर की तरह जकड़ लेगा हमें ,
तब तक नहीं छोड़ेगा;
जब तक निकल न जायेंगे प्राण ,
'अयं निजः परोवेति' की बात तो दूर हो गयी ...

अब सिर्फ दूसरों की चीजों से मज़े करो ,
ठूंस लो अपनी जेबें,
बचा खुचा तहस नहस कर दो ,
कभी न निकालो इकन्नी अपनी जेब से ,
दूसरों का सामान सरकारी माल की तरह उड़ाओ,
पता चल जाए कि इसके पास है कुछ ,
तो परिक्रमा करते रहो आसपास.
दूसरों की बुराइयों के कसीदे काढते रहो ,
अपनों के मन में भरते रहो ज़हर ;
की फूट न जाए उनके मन में किसी और के लिए प्यार का अंकुर ...
यही है उपभोक्तावाद का सच .

No comments:

Post a Comment

मंदिर में महिलाएं

अधजगी नींद सी कुछ बेचैन हैं तुम्हारी आंखें, आज काजल कुछ उदास है थकान सी पसरी है होंठों के बीच हंसी से दूर छिटक गई है खनक, आओ...