Tuesday, July 25, 2017

Truth can never be killed (सच कभी मारा नहीं जा सकता)

मेरे साथियों !
आओ भोंक दो मेरे सीने में अपने पैने खंज़र ,
टुकड़े - टुकड़े कर दो मेरे,
बहा दो मेरे जिस्म से खून की धार
फिर भी नहीं मरूंगा मै !

मुझे मारने का दिन-रात षड्यंत्र करने वालों ,
ओढ़ लो स्वार्थ की सफ़ेद चादर ,
काली पट्टियां बाँध लो अपनी आँखों पर
देने लगो न्याय विक्रमादित्य की तरह ;
फिर भी नहीं मार पाओगे तुम :
उस सच को ,
जो ज़िंदा रखेगा मुझे तुम्हारे आसपास ,
मेरी आवाज़ तुम्हेु फुफकारगी ,
सांय - सांय करने लगेंगे तुम्हारे कान ,
मेरा सच भीतर ही भीतर खोखला कर देगा तुम्हें ,
तुम ज़िंदा लाश बन घूमते रहोगे यंहा - वंहा,
और मैं ; मरकर भी जीवित रहूंगा अपने सच मे
क्योंकि सच कभी मारा नहीं जा सकता।



2 comments:

समलैंगिक प्रेम

बड़ा अजीब है प्रेम, किसी को भी हो जाता है, लड़की को लड़की से, लड़के को लड़के से भी, समलैंगिक प्रेम खड़ा है कटघरे में, अपराध है सभ्य समाज में...