Sunday, August 6, 2017

एक दोस्त सरहद के उस पार


11 comments:

  1. देश के बंटबारे के दर्द को आपने संवेदना की कूची से शब्दचित्र में बदल दिया है। बेहद मार्मिक रचना।
    आपकी यह प्रस्तुति गुरूवार 10 अगस्त 2017 को "पाँच लिंकों का आनंद "http://halchalwith5links.blogspot.in के 755 वें अंक में लिंक की गयी है। चर्चा में शामिल होने के लिए अवश्य आइयेगा ,आप सादर आमंत्रित हैं। सधन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. रवीन्द्र जी , आपका बहुत बहुत आभार .

      Delete
    2. उत्साहवर्धन के लिये बहुत बहुत धन्यवाद. मै चर्चा में जरुर भाग लूंगी. रचना को लिंक करने के लिये आभार.

      Delete
  2. सुंदर भाव ...दोस्ती में सरहदें कैसी ?

    ReplyDelete
    Replies
    1. मोनिका जी , ब्लोग पर आपका स्वागत है . प्रतिक्रिया देने कि लिये शुक्रिया. आगे भी आपकी प्रतिक्रियाओ का इंतज़ार रहेगा . सादर

      Delete
  3. सत्य कहा राजनीतिज्ञों के फैलाये आग में हम आज भी जल रहे हैं। बहुत ही मार्मिक रचना ! आभार ,"एकलव्य"

    ReplyDelete
  4. शुक्रिया एक्लव्य जी . आप सभी की सराहना और अच्छा लिखने के लिये प्रेरित करती है.

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर...
    हम अपनी दीवारों में कैद हो गये
    और हमारी दोस्ती हवाओं में घुल गयी
    मर्मस्पर्शी रचना....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सुधा जी , ब्लॉग पर आपका स्वागत है .

      Delete
  6. दोस्ती को सरहदें रोक नहीं सकती । सुंदर रचना।

    ReplyDelete
  7. सुन्दर मर्मस्पर्शी रचना...
    अच्‍छा लगा आपके ब्‍लॉग पर आकर....आपकी रचनाएं पढकर और आपकी भवनाओं से जुडकर....

    ReplyDelete

समलैंगिक प्रेम

बड़ा अजीब है प्रेम, किसी को भी हो जाता है, लड़की को लड़की से, लड़के को लड़के से भी, समलैंगिक प्रेम खड़ा है कटघरे में, अपराध है सभ्य समाज में...