Saturday, September 2, 2017

सागर हो कर क्या कर लोगे?

एक था सागर भरा लबालब
प्यास के मारे तड़प रहा था,
इतनी थाती रखकर भी वो
बूंद - बूंद को मचल रहा था,
नदिया ने फ़िर हाथ मिलाया,
घूंट-घूंट उसको सहलाया,
उसके खारे पानी में भी
अपना मीठा नीर मिलाया.
दोनो मिलकर एक हुए जब
मीठा जल भी खारा हो गया.
दुनिया कहती नदी बनो तुम,
सारे जग की प्यास हरो तुम.
सागर हो कर क्या कर लोगे?
कैसे सबकी प्यास हरोगे?
कैसे धरती हरी करोगे?


No comments:

Post a Comment

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...