Tuesday, December 12, 2017

तहज़ीब


2 comments:

  1. बहुत ही लाजवाब पन्क्तियाँ !!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  2. खूबसूरत पंक्तियाँ

    ReplyDelete

मंदिर में महिलाएं

अधजगी नींद सी कुछ बेचैन हैं तुम्हारी आंखें, आज काजल कुछ उदास है थकान सी पसरी है होंठों के बीच हंसी से दूर छिटक गई है खनक, आओ...