Monday, December 18, 2017

ढाई आखर


1 comment:

  1. बहुत सुंदर पंक्तियाँ प्रिय अपर्णा -- सस्नेह --

    ReplyDelete

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...