Monday, December 18, 2017

ढाई आखर


1 comment:

  1. बहुत सुंदर पंक्तियाँ प्रिय अपर्णा -- सस्नेह --

    ReplyDelete

मंदिर में महिलाएं

अधजगी नींद सी कुछ बेचैन हैं तुम्हारी आंखें, आज काजल कुछ उदास है थकान सी पसरी है होंठों के बीच हंसी से दूर छिटक गई है खनक, आओ...