Tuesday, March 27, 2018

धार्मिक तन्हाई का दंश

धर्म का लाउडस्पीकर
जब उड़ेलता है उन्माद का गंदा नशा
हाँथ पैर हो जाते हैं अंधे,
नौजवान खून उबाल मारता है,
मासूम हाँथ रंग जाते हैं अपनों के खून से,
ज़ालिम दिमाग़ कोनों में मुस्कुराते हैं,
राजनीति की रोटियां सिंकती हैं
बेगुनाहों की चिता पर,
कानून के हांथ आये नादान लोग
जेल की तन्हाई में काटते हैं जवानी,
पैदा होती है अपराधियों की एक और पौध,
कुछ और शातिर दिमाग
सीखते हैं मक्कारी,
चल पड़ते हैं उसी राह पर
कि दूर कर दो बच्चे को बच्चे से,
फ़िर कभी धर्म के नाम पर खुशियां न मन सकें.
(Image credit google)





18 comments:

  1. Replies
    1. शुक्रिया आदरणीय
      सादर

      Delete
  2. यथार्थ दंश है ये तन्हाई का।
    लाजवाब रचना

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 29.3.2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2924 में दिया जाएगा



    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार आदरणीय
      सादर

      Delete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. नमस्ते,
    आपकी यह प्रस्तुति BLOG "पाँच लिंकों का आनंद"
    ( http://halchalwith5links.blogspot.in ) में
    शुक्रवार 30 मार्च 2018 को प्रकाशनार्थ 987 वें अंक में सम्मिलित की गयी है।

    प्रातः 4 बजे के उपरान्त प्रकाशित अंक अवलोकनार्थ उपलब्ध होगा।
    चर्चा में शामिल होने के लिए आप सादर आमंत्रित हैं, आइयेगा ज़रूर।
    सधन्यवाद।

    ReplyDelete
  6. सादर आभार आदरणीय रवीन्द्र जी

    ReplyDelete
    Replies
    1. क्षमा कीजियेगा ,आपकी यह प्रस्तुति आगामी सोमवारीय विशेषांक के लिए सुरक्षित है। इसका प्रकाशन 2 अप्रैल 2018 को होगा।

      Delete
  7. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक २ अप्रैल २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  8. वाह!!बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  9. धर्म-मज़हब के तवे पर सियासत की रोटियां सेकी जाती हैं. इस धंधे में इंसानियत को गिरवी रख कर हैवानियत ख़रीदी जाती है फिर उसे बेवकूफ़ों को मुनाफ़े के साथ बेचा जाता है.

    ReplyDelete
  10. बहुत खूब.....
    वाह!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया सुधा जी
      सादर

      Delete
  11. दंगों के सच को बयां करती सूंदर रचना, साथ में सादर आग्रह है कि आप मुझे g + पर फॉलो करती ही हैं, ब्लॉग को भी फॉलो/अनुसरण करें।

    ReplyDelete

स्वाद!

उनकी टपकती खुशी में छल की बारिश ज़्यादा है, आँखों में रौशनी से ज्यादा है नमी, धानी चूनरों में बंधे पड़े हैं कई प्रेम, ऊब की काई पर...