Wednesday, November 18, 2020

बुरा आदमी (#हिन्दी कविता)

बुरे बनते आदमी की राह में

उसकी अच्छाइयां होती हैं मील का पत्थर,

कदम दर कदम नापता रिश्तों का खोखलापन

आदमी हो जाता है पूरा का पूरा खाली,

ढोल और नगाड़े से बजते हैं वे शब्द

जो कहे गए थे कभी उसकी भलमनसाहत में.

आदमी बुरा नहीं होता;

आदमी होता है थोड़ा टेढ़ा,

जो अपेक्षाओं की सीधी लकीरों में समा नहीं पाता।।



#AparnaBajpai

#आदमी

7 comments:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 20-11-2020) को "चलना हमारा काम है" (चर्चा अंक- 3891 ) पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित है।

    "मीना भारद्वाज"

    ReplyDelete
  2. शुक्रिया मीना जी
    सादर

    ReplyDelete
  3. अत्यंत विचारपूर्ण काव्य रचना...

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी बहुत शुक्रिया
      सादर

      Delete
  4. सुन्दर रचना

    ReplyDelete

परदेश

 पानी संग निचुर जाती हैं आंखें सूर्य को अर्घ्य देती मां, मांगती है सलामती की दुआ, सुखी रहे लाल, घर परिवार, भरा रहें अंचरा, सुहागन बनी रहे पत...