Sunday, February 4, 2018

प्रेम की उतरन


अंजुरी में तुम्हारी यादों का दिया जला
पढ़ता रहा हमारी अनलिखी किताब.
हमारा साथ अंकित था हर पृष्ठ पर,
हमारा झगड़ा और वो
अनोखी सुलह.....
जब तुमने हमारे रिश्ते के लिए
बाज़ार की शर्त लगा दी.......
और मै!
कांपता ही रहा अनोखे डर से.
मेरी हंथेली में तुम्हारी रेखा नहीं थी
और तुम ....
नसीब पर ऐतबार कर रही थी.
चाहा था मैंने भी उतना ही
जितना तुमने;
साथ हमारा खिले
सुर्ख गुलाब सा।
सूखे गुलाबों की पंखुड़ियां
महकती हैं अब भी,
उड़ते हैं मोरपंख,
गौरैया का घर टंगा है अब भी वंही,
स्वप्नों की कतरने
सजी हैं दीवारों पर,
तुम भी हो,
मै भी हूँ,
बस हमारा रिश्ता
बाज़ार में बिक गया ।

(Picture credit google )




35 comments:

  1. Replies
    1. सादर आभार लोकेश जी

      Delete
  2. शुभ प्रभात
    बेहतरीन
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत शुक्रिया
      सादर

      Delete
  3. अप्रतिम सुंदर।

    ReplyDelete

  4. बेहद सुन्दर‎ भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार मीना जी

      Delete
  5. स्वप्नों की कतरने
    सजी हैं दीवारों पर,
    तुम भी हो,
    मै भी हूँ,
    बस हमारा रिश्ता
    बाज़ार में बिक गया।
    आदरणीया अपर्णा जी आपने इन शब्दों को इस कदर पिरोया है कि इनका भाव और अभिव्यक्ति बहुत ही सुंदर है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय सोनू जी , आपकी सराहना के लिए सादर आभार । ब्लॉग पर आपकी प्रतीक्षा रहेगी ।
      सादर

      Delete
  6. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय ज्योति दी , बहुत बहुत शुक्रिया । मई आपके विविध रंगी लेखन की कायल हूँ। आप हर विषय में महारत रखती हैं । कई बार आपके ब्लॉग पर जाकर राय नहीं दे पाती हूँ पर कोई भी लिंक दिखने पर पढ़ती अवश्य हूँ।
      आपको सादर नमन।

      Delete
    2. बहुत सुन्दर ! बशीर बद्र का एक शेर याद आ गया - कुछ तो मजबूरियां रही होंगी, यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता.'

      Delete
    3. आदरणीय गोपेश जी
      ब्लॉग पर आने और उत्साहवर्धन के लिए बहुत बहुत शुक्रिया.
      आगे भी आपकी प्रतिक्रियाओं की अपेक्षा है.
      सादर

      Delete
  7. वाह
    बहुत सुंदर सृजन
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय ज्योति जी , ब्लॉग पर आपका स्वागत है । प्रतिक्रिया के लिए सादर आभार

      Delete
  8. बहुत ही खूबसूरत पंक्तियां

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया जी
      सादर

      Delete
  9. संवेदनशील प्रस्तुति... बहुत ख़ूब!
    बधाई व शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुनील जी सादर धन्यवाद

      Delete
  10. नमस्ते,
    आपकी यह प्रस्तुति BLOG "पाँच लिंकों का आनंद"
    ( http://halchalwith5links.blogspot.in ) में
    गुरूवार 8 फरवरी 2018 को प्रकाशनार्थ 937 वें अंक में सम्मिलित की गयी है।

    प्रातः 4 बजे के उपरान्त प्रकाशित अंक अवलोकनार्थ उपलब्ध होगा।
    चर्चा में शामिल होने के लिए आप सादर आमंत्रित हैं, आइयेगा ज़रूर।
    सधन्यवाद।

    ReplyDelete
  11. आदरणीय रवीन्द्र जी , मेरी रचना को पटल पर रखने के लिए हार्दिक आभार ।
    सादर

    ReplyDelete
  12. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 08-02-2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2873 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय दिलबाग जी
      मेरी रचना को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए सादर धन्यवाद ।

      Delete
  13. सत्य को छूती पंक्तियां बहुत सुंदर लगी

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय , हार्दिक आभार
      सादर

      Delete
  14. वाह्ह...क्या बात है बेहद सुंदर रचना अपर्णा जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. श्वेता जी, हार्दिक आभार
      सादर

      Delete
  15. वाह!!बहुत खूब!!

    ReplyDelete
  16. सुंंदर संवेदनशील रचना..

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया पम्मी दी
      सादर

      Delete
  17. बहुत सुन्दर....
    वाह!!!

    ReplyDelete
  18. स्वप्नों की कतरने
    सजी हैं दीवारों पर,
    तुम भी हो,
    मै भी हूँ,
    बस हमारा रिश्ता
    बाज़ार में बिक गया ।--
    विरही मन का वीत राग -- बहुत ही मर्मस्पर्शी रचना प्रिय अपर्णा ०० सस्नेह --

    ReplyDelete

आँचल में सीप

तुम्हारी सीप सी आंखें और ये अश्क के मोती, बाख़बर हैं इश्क़ की रवायत से... तलब थी एक अनछुए पल की जानमाज बिछी; ख़ुदा से वास्ता बन...