Wednesday, January 31, 2018

इंद्रधनुष




इंद्रधनुष आसमान में ही नहीं उगता
यह उगता है एक स्त्री के जीवन में भी 
हर शाम खून के लाल-लाल आंसू  टपक पड़ते है 
उसकी आँखों से; 
जब खरीदकर अनचाहे ही
 बिठा दी जाती कोठे पर बार बार
 बिकने के लिए.

इंद्रधनुष का नीला रंग 
जब-तब कौंध जाता है 
जब प्रकट करती है वह अपनी इच्छा 
और बदले में मिलते हैं क्रोध के उपहार,

कहते हैं बैगनी रंग औरतों की आज़ादी का प्रतीक है 
देखिये कभी उसकी आँखों के नीचे उभरे हुए स्याह दाग 
आज़ादी के मायने उसकी हर तड़प में सिमटे हुए मिलते हैं,

इन्द्रधनुष का हरा रंग 
उसकी कोख में तोड़ता है दम,
सूख जाती है हरियाली,
पता चलते ही भ्रूण मादा है नर नहीं 
और......... बहा दिया जाता है बेवजह रक्त के साथ

हर ताने के बाद बुझ जाता है उसके जीवन से 
उल्लास का नारंगी रंग,
समाज मीच लेता हैं आँख और औरत; 
व्योम के आसमानी रंग सी 
विस्तार पा जाती है अपनी कुर्बानियों में.

बारिश के बाद
आसमान में उगता है इन्द्रधनुष 
और......... 
ज़िंदगी से मिट जाते हैं इन्द्रधनुष के रंग 
कि...... औरत को औरत होने की सज़ा मिलती है.

(image credit google)


12 comments:

  1. वाह बहुत ही बढ़िया। नारी की व्यथा को इंद्रधनुष के रंगों में पिरोना और वो भी इतनी खूबसूरती से। मान गए आपको।

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. बेहद खूबसूरत शब्दों से सजी रचना।
    रंग रंगीन होते हैं पर औरत के साथ मिलकर ये भी रंगहीन हो जाते हैं। बहुत अच्छे भावों के साथ स्त्री मन के दर्द को उकेरा है। वो दर्द जो रोज-रोज जीती है।

    ReplyDelete
  4. सुन्दर बिम्ब योजना!बधाई!!!

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब


    यदि आप Ad Click Team का हिस्सा बनना चाहते है
    तो जल्दी से अपने ब्लॉग वेबसाईट का लिंक नीचे कमेन्ट में डाल दीजिये .
    या Contact Form में अपने ब्लॉग या वेबसाईट की जानकारी भेज दीजिये .
    मै गारंटी लेता हूँ आपकी ब्लॉग बेबसाईट से इनकम बढने की
    आपका ब्लॉग अप्रूव होने पर
    इस पेज पर दिखने लगेगा . https://adclickteam.blogspot.in

    ReplyDelete
  6. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक ५ फरवरी २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  7. शुक्रिया श्वेता जी । मेरी रचना को मान देने के लिए आभार ।
    सादर

    ReplyDelete
  8. नारी की व्यथा को इंद्रधनुष के रंगों से बहुत
    खूबसूरती से पिरोया है।

    ReplyDelete
  9. के प्रतीकात्मक इन्द्रधनुष बहुत मर्मान्तक है प्रिय अपर्णा ----- कौन देख ना चाहता ये दारुण व्यथाओं वाला इन्द्र्धनुष ?????
    बारिश के बाद
    आसमान में उगता है इन्द्रधनुष
    और.........
    ज़िंदगी से मिट जाते हैं इन्द्रधनुष के रंग
    कि...... औरत को औरत होने की सज़ा मिलती है.


    सस्नेह

    ReplyDelete

स्वाद!

उनकी टपकती खुशी में छल की बारिश ज़्यादा है, आँखों में रौशनी से ज्यादा है नमी, धानी चूनरों में बंधे पड़े हैं कई प्रेम, ऊब की काई पर...