प्रेम की तारीख



आँखों की कोरों में एक सागर अटका था 
दहलीज पर टिकी थी लज्जा
आँचल खामोश था 
थामे था सब्र ..... कि
खुद से मिलने की घड़ी बीत न जाय.

मौसम में थी बेपनाह मोहब्बत
लबों पर जज्बातों की लाली 
अलकों में अटका था गुलाबों का स्पर्श 
नाचती धरती ने एक ठुमका लगाया
वसंत ने ली अंगडाई 
और प्रेम 
तारीखों में अमर हो गया.

(Image credit Google)

Comments

  1. वाह्ह्ह.....बहुत खूब👌👌👌
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति अपर्णा जी।

    ReplyDelete
  2. आपकी प्रतिक्रिया बहुत मायने रखती है श्वेता जी, बहुत बहुत शुक्रिया ।
    सादर

    ReplyDelete
  3. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 15.02.2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2881 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना को चर्चा मंच पर साझा करने के लिए मैं आपका हार्दिक आभार प्रकट करती हूँ।
      सादर

      Delete
  4. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  5. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार १६फरवरी २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आदरणीय श्वेता जी , मेरी रचना को मान देने के लिए शुक्रिया।
      सादर

      Delete
  6. बहुत सुंदर रचना अपर्णा जी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार मालती जी , ब्लॉग पर आपका स्वागत है
      सादर

      Delete
  7. वसंत ने ली अंगडाई
    और प्रेम
    तारीखों में अमर हो गया.---------

    बहुत खूब प्रिय अपर्णा | बहुत ही प्यारे भाव हैं |

    ReplyDelete
    Replies
    1. प्रिय रेनू दी, आपकी सराहना मन उमंग से भर देती है । सादर आभार

      Delete
  8. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  9. "आँखों की कोरों में एक सागर अटका था " सच कहूँ तो कविता यही पुरी हो गयी! बधाई!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी सच कह रहे हैं आप, कविता वास्तव में वंही पूरी हो गयी, बाकी तो भावभूमि तैयार की गयी है.
      बहुत आभार
      सादर

      Delete

Post a Comment

Popular Posts