Tuesday, November 28, 2017

जूठी प्लेटो का इंतज़ार


6 comments:

  1. शुक्रिया नदीश जी

    ReplyDelete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. बहुत मर्मान्तक है आपके शब्द- प्रिय अपर्णा | आँखें नमी से बोझिल हो गयी और खुद से नजरे चुराने लगी | यही है सभ्य समाज का वीभत्स सत्य !

    ReplyDelete
  4. जीवन के हर पहलू का सत्य!!!! आपकी लेखनी और लेखन कमाल कमाल कमाल।
    शुभ संध्या ।

    ReplyDelete
  5. कडुवा सत्य,ना जाने कैसे इतनी असमानताएं बड़ गई,जुठे भोजन के लिए भी इंसानियत भर्ती हैं हर रोज .. मार्मिक अहसास.!!

    ReplyDelete

मंदिर में महिलाएं

अधजगी नींद सी कुछ बेचैन हैं तुम्हारी आंखें, आज काजल कुछ उदास है थकान सी पसरी है होंठों के बीच हंसी से दूर छिटक गई है खनक, आओ...