Wednesday, May 9, 2018

घूँट--घूँट प्यास


( नोट- कविता में बेवा के घर को सिर्फ एक प्रतीक के तौर पर) पढ़ें।

6 comments:

  1. जलवा दिया ना बेवा का घर
    कब से कर रहे हैं सचेत
    लेकिन चेतने को कोई तैयार ही नहीं।

    बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  2. शब्दों पर आप की पकड़ लाजवाब है। और सोने पे सुहागा उसके भाव। विषय चयन बेहद शानदार। अद्भुत !!!

    ReplyDelete
  3. वाह!!बहुत खूब !

    ReplyDelete
  4. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है https://rakeshkirachanay.blogspot.in/2018/05/69.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. सादर आभार राकेश जी

    ReplyDelete

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...