Wednesday, May 9, 2018

घूँट--घूँट प्यास


( नोट- कविता में बेवा के घर को सिर्फ एक प्रतीक के तौर पर) पढ़ें।

6 comments:

  1. जलवा दिया ना बेवा का घर
    कब से कर रहे हैं सचेत
    लेकिन चेतने को कोई तैयार ही नहीं।

    बेहतरीन रचना

    ReplyDelete
  2. शब्दों पर आप की पकड़ लाजवाब है। और सोने पे सुहागा उसके भाव। विषय चयन बेहद शानदार। अद्भुत !!!

    ReplyDelete
  3. वाह!!बहुत खूब !

    ReplyDelete
  4. आपकी लिखी रचना "मित्र मंडली" में लिंक की गई है https://rakeshkirachanay.blogspot.in/2018/05/69.html पर आप सादर आमंत्रित हैं ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. सादर आभार राकेश जी

    ReplyDelete

स्वाद!

उनकी टपकती खुशी में छल की बारिश ज़्यादा है, आँखों में रौशनी से ज्यादा है नमी, धानी चूनरों में बंधे पड़े हैं कई प्रेम, ऊब की काई पर...