Thursday, June 29, 2017

उम्मीद


 उम्मीद 

क तिनका धूप के बावजूद

बची है रोशनी की थोड़ी सी उम्मीद

कि बंजर घोषित धरती पर भी

उग आता है कभी कभी

बबूल सा कोई पौधा

और आने जाने वाले पथिकों के लिये

बन जाता है थोड़ी देर सुस्ता लेने का छोटा सा आसरा

No comments:

Post a Comment

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...