Tuesday, June 30, 2020

रात की सुबह

 
उदासी के बाद
मुस्कान की चमक,
जैसे मेघों ने किया हवाओं का आलिंगन,
उम्र ने कुछ राग छेड़ा,
साहिल को ढूंढ कर
पंहुचा घर नाविक,
पहाड़ ने जमीं को प्यार किया
जैसे रात ने सुबह में खोज लिया अंत।

जल है तो कल है

 सुनें एक कहानी और खोजें पानी बचाने के नए नए तरीके