Tuesday, October 10, 2017

बेटी का आना


7 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा 12-10-2017 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2755 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिलबाग जी,मेरी रचना को मान देने के लिये बहुत बहुत आभार.

      Delete
  2. बहुत ही भावपूर्ण शब्द हैं प्रिय अपर्णा | काश हर कोई बेटी को इसी भावना से गले लगाये !!!!!!!!!!!!


    ReplyDelete

खलल (तीन कवितायेँ)

१.  ज़िंदगी से जूझ कर मौत से युद्ध कर  ऐ दुनिया!  इंसान को इंसान से मिला, खलल पैदा कर  इस अनवरत चक्र में, वक्त के पाटों म...