Tuesday, October 10, 2017

बेटी का आना


7 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा 12-10-2017 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2755 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिलबाग जी,मेरी रचना को मान देने के लिये बहुत बहुत आभार.

      Delete
  2. बहुत ही भावपूर्ण शब्द हैं प्रिय अपर्णा | काश हर कोई बेटी को इसी भावना से गले लगाये !!!!!!!!!!!!


    ReplyDelete

अटल जी की अवधी बोली में लिखी कविता

मनाली मत जइयो मनाली मत जइयो, गोरी  राजा के राज में जइयो तो जइयो,  उड़िके मत जइयो,  अधर में लटकीहौ,  वायुदूत के जहाज़ मे...