Thursday, February 1, 2018

ख़त


उजड़े हुए खतों ने आज फिर दस्तक दी, 
चाँद शरमाया, 
सिमटा, 
लरज गया मात्र सरगोशी से 
उफ़ान पर थे बादल, 
बरसने को बेताब। 
हवा ने थामा हाँथ, 
ले गयी दूर..... 
कहा!  
यादों के सिरे थाम कर; 
बहकाना गुनाह है. 
खतों का क्या, 
बिन पता होते हुए भी 
पंहुच ही जाते हैं, 
प्यार पंहुचा ही देते है प्रिय के पास, 
जान शब्दों में नहीं,
एहसासों में होती है,
और ख़त........  
एहसासों का शरीर। 

(picture credit google)


13 comments:

  1. Replies
    1. शुक्रिया आदरणीय । सादर

      Delete
  2. वाह! रुमानियत से लबरेज़।
    ������
    तुमने तो खत को भाव और लिबास दोनों में पिरो दिया।
    वो खत ही तो हैं जो दिलाते हैं करीब होने का अहसास।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर अपर्णा जी। भावों से लबरेज प्यारी कविता।

    ReplyDelete
  4. पता पूँछ कर आओगे तो क्या बस मेरा घर मिलेगा,
    बिन पते भटकोगे तो ज़र्रे-ज़र्रे से मेरी पहचान होगी।

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर रचना
    मन को भा गई आप की रचना

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर रचना
    मन को भा गई आप की रचना

    ReplyDelete
  7. बेहद‎ खूबसूरत रचना‎.

    ReplyDelete
  8. Behad khubsoorat Rachana Aparna.

    ReplyDelete
  9. आपकी लिखी रचना आज "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 04 फरवरी 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  10. मन के सुंदर एहसासों को साकार करती रचना ०० प्रिय अपर्णा -- बहुत अच्छा लिखा आपने | सस्नेह शुभकामना --

    ReplyDelete
  11. सरल साफ और स्पष्ट रचना

    ReplyDelete

#me too

भीतर कौंधती है बिजली, कांप जाता है तन अनायास, दिल की धड़कन लगाती है रेस, और रक्त....जम जाता है, डर बोलता नहीं कहता नहीं, नाचत...