Thursday, July 20, 2017

नेतागिरी

इसकी टोपी उसके सिर
उसकी टोपी इसके सिर
कंहा से सीखा ?


अरे क्या कह रहे है भैया !
पुरखों से यही धंधा तो करते आ रहे है

नेतागिरी तो हमारे खून में है .........

2 comments:

खरीद -फ़रोख़्त (#Human trafficking)

बिकना मुश्किल नहीं न ही बेचना, मुश्किल है गायब हो जाना, लुभावने वादों और पैसों की खनक खींच लेती है इंसान को बाज़ार में, गांवो...